Sunday, November 7, 2010

बुढ़िया

एक शब्द है
बुढ़िया
जो

आदरसूचक अर्थ नहीं रखता
मगर
अवस्थाबोध जरुर कराता है
जिसे भिखमंगे जैसी दया की
दरकार होती है
मेरी दादी वही हो गयी है
बुढ़िया
माँ की नज़रों में
वह काम नहीं कर सकती है
इसलिए
पापा कहते है
मुफ्तखोर
फ्लैट के उस कोने में
जहाँ
मै टॉमी को बांधता था
बिस्तर लगा है
बुढ़िया
यानि मेरी दादी का
माँ की जो साड़ी
पहले कामवाली बाई ले जाती थी
अब पहनती है
बुढ़िया
यानी मेरी दादी
कल जब सिन्हा आंटी आयी थी
तो
माँ ने कहा था
उनके गांव की है
बुढ़िया
वह हमेशा राम - राम जपती रहती है
डेली सोप के समय
माँ चीखती है
पागल बुढ़िया
चुप रहो
मै उससे मिल नहीं सकता
वह बीमार है
स्कूल से लौटने पर
उसे दूर से देख सकता हूँ
उसके हाथ कांपते रहते है
वह दिन में कई बार
अपनी गठरी खोलती है
टटोलती है
मानों कुछ
खोज रही हो
और फिर बंद कर देती है
माँ कहती है
काफ़ी भद्दी और लालची है बुढ़िया
एकदम देहाती गंवार है
मगर
बुढ़िया मेरेलिए आश्चर्य है
जब मुझे पता लगा
कि
वह मेरे पापा की माँ है
तो
मुझे विश्वास नहीं हुआ
क्या माँ ऐसी होती है ?
एक दिन
उसने मुझे
पास बुलाकर एक मिठाई दी
और कहा -" खा "
मै खाने को ही था
कि
माँ ने आकर
मेरे हाथ झटक दिए
कहा -
जहर है मत खा
फिर बुढ़िया से कहा
इस मिठाई की तरह
तुम्हारा दिमाग भी सड़ गया है
वह रोज नहीं नहा पाती
वह बदबू देती है
उसके बर्तन अलग हैं
महाराज उसके लिए
अलग से खाना बनाता है
बुढ़िया यानी
मेरी दादी से
कोई बात नहीं करता
सिवाय उस महरी के
जो झाड़ू लगाने आती है
फिर भी
वह बड़बड़ाती रहती है
कभी-कभी
वह रोने लगती है
जबकि
उसे कोई मारता नहीं है
माँ कहती है
नाटक
मैंने जब माँ से पूछा -
बुढ़िया
यहाँ क्यूँ आई है
तो
माँ ने हँसते हुए कहा -
मरने के लिए!
(एक बार फिर अपनी इस कविता को आपके लिए प्रकाशित कर रहा हूँ - ॐ राजपूत)

6 comments:

Patali-The-Village said...

हमें अपने बुजुर्गों का आदर करना चाहिए|

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

ओह , बहुत मार्मिक ...लोंग नहीं समझते कि यही कल उनका भी आना है ..

वन्दना said...

रौंगटे खडे हो गये हैं और आँख़ों मे आँसू……………इतना सटीक और मार्मिक चित्रण किया है कि दिल दहल जाता है मगर पत्थर दिल इंसान नही……………और कुछ कहने की अब हिम्मत नही है।

जनविजय said...

यह कविता सचमुच अच्छी है क्योंकि जीवन की सच्चाई है।

रश्मि प्रभा... said...

bahut kuch kah diya ...bahut kuch, dil ko jhakjhornewale ehsaas

Dr. Om Rajput said...

कविता को इतना पसंद करने के लिए आभार व्‌यक्‌त करता हूँ